Class 9 Geography || Chapter 3 अपवाह || Drainage Notes In Hindi

 

Class 9 Geography Chapter 3 अपवाह Drainage Notes In Hindi

 

📚 अध्याय = 3 📚

💠 अपवाह 💠

❇️ अपवाह :-

🔹 ” अपवाह ” एक क्षेत्र के नदी तंत्र की व्याख्या के लिए उपयोग होता है ।

❇️ अपवाह द्रोणी :-

🔹 एक नदी तंत्र द्वारा जिस क्षेत्र का जल प्रवाहित होता है उसे अपवाह द्रोणी कहते हैं ।

❇️ विश्व की सबसे बड़ी अपवाह द्रोणी :-

🔹 विश्व की सबसे बड़ी अपवाह द्रोणी अमेज़न नदी की है ।

❇️ भारत की सबसे बड़ी अपवाह द्रोणी :-

🔹 भारत की सबसे बड़ी अपवाह द्रोणी गंगा नदी की है ।

❇️ जल विभाजक :-

🔹 कोई भी ऊँचा क्षेत्र , जैसे- पर्वत या उच्च भूमि दो पड़ोसी अपवाह द्रोणियों को एक दूसरे से अलग करती है । इस प्रकार की उच्च भूमि को जल विभाजक कहते हैं ।

❇️ भारत में अपवाह तंत्र :-

🔹 भारत के अपवाह तंत्र का नियंत्रण मुख्यतः भौगोलिक आकृतियों के द्वारा होता है । इस आधार पर भारतीय नदियों को दो मुख्य वर्गों में विभाजित किया गया है :-

 

हिमालय की नदियाँ

 

प्रायद्वीपीय नदियाँ

 

❇️ हिमालय की नदियाँ :-

 

हिमालय की अधिकतर नदियाँ बारहमासी नदियाँ होती हैं ।

 

इनमें वर्ष भर पानी रहता है , क्योंकि इन्हें वर्षा के अतिरिक्त ऊँचे पर्वतों से पिघलने वाले हिम द्वारा भी जल प्राप्त होता है ।

 

हिमालय की दो मुख्य नदियाँ सिंधु तथा ब्रह्मपुत्र इस पर्वतीय श्रृंखला के उत्तरी भाग से निकलती हैं ।

 

इन नदियों ने पर्वतों को काटकर गॉर्जों का निर्माण किया है ।

 

हिमालय की नदियाँ अपने उत्पत्ति के स्थान से लेकर समुद्र तक के लंबे रास्ते को तय करती हैं ।

 

ये अपने मार्ग के ऊपरी भागों में तीव्र अपरदन क्रिया करती हैं तथा अपने साथ भारी मात्रा में सिल्ट एवं बालू का संवहन करती हैं ।

 

मध्य एवं निचले भागों में ये नदियाँ विसर्प , गोखुर झील तथा अपने बाढ़ वाले मैदानों में बहुत – सी अन्य निक्षेपण आकृतियों का निर्माण करती हैं ।

 

ये पूर्ण विकसित डेल्टाओं का भी निर्माण करती हैं ।

 

❇️ हिमालय की प्रमुख नदियाँ :-

 

सिंधु नदी तंत्र

 

गंगा नदी तंत्र

 

ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र

 

🔹 सिंधु , गंगा तथा ब्रह्मपुत्र हिमालय से निकलने वाली प्रमुख नदियाँ हैं । ये नदियाँ लंबी हैं तथा अनेक महत्त्वपूर्ण एवं बड़ी सहायक नदियाँ आकर इनमें मिलती हैं । किसी नदी तथा उसकी सहायक नदियों को नदी तंत्र कहा जाता है ।

❇️ सिंधु नदी तंत्र :-

 

सिंधु नदी का उद्गम मानसरोवर झील के निकट तिब्बत में है ।

 

पश्चिम की ओर बहती हुई यह नदी भारत में लद्दाख से प्रवेश करती है ।

 

इस भाग में यह एक बहुत ही सुंदर दर्शनीय गार्ज का निर्माण करती है ।

 

सिंधु नदी बलूचिस्तान तथा गिलगित से बहते हुए अटक में पर्वतीय क्षेत्र से बाहर निकलती है ।

 

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- इस क्षेत्र में बहुत सी सहायक नदियाँ जैसे जास्कर , नूबरा , श्योक तथा हुंजा इस नदी में मिलती हैं ।

🔶 सिंधु नदी की लंबाई :- 2,900 कि० मी० लंबी सिंधु नदी विश्व की लंबी नदियों में से एक है ।

 

अंत में कराची से पूर्व की ओर अरब सागर में मिल जाती है ।

 

❇️ गंगा नदी तंत्र :-

🔶 लंबाई :- गंगा की लंबाई 2,500 कि ० मी ० से अधिक है ।

 

इसकी मुख्य धारा ‘ भागीरथी ‘ गंगोत्री हिमनद से निकलती है ।

 

अलकनंदा अतराखण्ड के देवप्रयाग में इससे मिलती है ।

 

हरिद्वार में गंगा पर्वतीय भाग छोड़कर मैदान में आती है ।

 

हिमालय से निकलने वाली बहुत सी नदियाँ आकर गंगा में मिलती हैं यमुना , घाघरा , गंडक , कोसी

 

❇️ ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र :-

 

ब्रह्मपुत्र नदी तिब्बत की मानसरोवर झील के पूर्व तथा सिंधु एवं सतलुज के स्रोतों के काफी नजदीक से निकलती है ।

 

इसकी लंबाई सिंधु से कुछ अधिक है , परंतु इसका अधिकतर मार्ग भारत से बाहर स्थित है ।

 

यह हिमालय के समानांतर पूर्व की ओर बहती है । नामचा बारवा शिखर ( 7,757 मीटर ) के पास पहुँचकर यह अंग्रेजी के यू ( U ) अक्षर जैसा मोड़ बनाकर भारत के अरुणाचल प्रदेश में गॉर्ज के माध्यम से प्रवेश करती है । यहाँ इसे दिहाँग के नाम से जाना जाता है ।

 

ब्रह्मपुत्र को तिब्बत में सांगपो एवं बांग्लादेश जमुना कहा जाता है ।

 

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- दिबांग , लोहित , केनुला एवं दूसरी सहायक नदियाँ इससे मिलकर असम में ब्रह्मपुत्र का निर्माण करती हैं ।

 

ब्रह्मपुत्र नदी में तिब्बत में गाद कम होती है क्योंकि तिब्बत एक शुष्क तथा शीत क्षेत्र है ।

 

❇️ सुन्दर वन डेल्टा :-

🔹 विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा सुंदर वन है , सुन्दर वन डेल्टा का नाम यहाँ पाए जाने वाले सुंदरी के पेड़ के कारण पड़ा है ।

❇️ प्रायद्वीपीय नदियाँ :-

 

अधिकतर प्रायद्वीपीय नदियाँ मौसमी होती हैं , क्योंकि इनका प्रवाह वर्षा पर निर्भर करता है ।

 

शुष्क मौसम में बड़ी नदियों का जल भी घटकर छोटी – छोटी धाराओं में बहने लगता है ।

 

हिमालय की नदियों की तुलना में प्रायद्वीपीय नदियों की लंबाई कम तथा छिछली हैं ।

 

फिर भी इनमें से कुछ केंद्रीय उच्चभूमि से निकलती हैं तथा पश्चिम की तरफ बहती हैं ।

 

प्रायद्वीपीय भारत की अधिकतर नदियाँ पश्चिमी घाट से निकलती हैं तथा बंगाल की खाड़ी की तरफ बहती हैं ।

 

❇️ प्रायद्वीपीय की प्रमुख नदियाँ :-

 

नर्मदा द्रोणी

 

पानी द्रोणी

 

गोदवरी द्रोणी

 

महानदी द्रोणी

 

कृष्णा द्रोणी

 

कावेरी द्रोणी

 

❇️ नर्मदा द्रोणी :-

 

नर्मदा का उद्गम मध्य प्रदेश में अमरकंटक पहाड़ी के निकट है ।

 

यह पश्चिम की ओर एक भ्रंश घाटी में बहती है ।

 

समुद्र तक पहुँचने के क्रम में यह नदी बहुत से दर्शनीय स्थलों का निर्माण करती है ।

 

जबलपुर के निकट संगमरमर के शैलों में यह नदी गहरे गार्ज से बहती है तथा जहाँ यह नदी तीव्र ढाल से गिरती है , वहाँ ‘ धुँआधार प्रपात ‘ का निर्माण करती है ।

 

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- नर्मदा की सभी सहायक नदियाँ बहुत छोटी हैं , इनमें से अधिकतर समकोण पर मुख्य धारा से मिलती हैं ।

 

नर्मदा द्रोणी मध्य प्रदेश तथा गुजरात के कुछ भागों में विस्तृत है ।

 

❇️ तापी द्रोणी :-

 

तापी का उद्गम मध्य प्रदेश के बेतुल जिले में सतपुड़ा की श्रृंखलाओं में है ।

 

यह भी नर्मदा के समानांतर एक भ्रंश घाटी में बहती है , लेकिन इसकी लंबाई बहुत कम है ।

 

इसकी द्रोणी मध्यप्रदेश , गुजरात तथा महाराष्ट्र राज्य में है ।

 

अरब सागर तथा पश्चिमी घाट के बीच का तटीय मैदान बहुत अधिक संकीर्ण है । इसलिए तटीय नदियों की लंबाई बहुत कम है ।

 

पश्चिम की ओर बहने वाली मुख्य नदियाँ साबरमती , माही , भारत पुजा तथा पेरियार हैं ।

 

❇️ गोदावरी द्रोणी :-

 

गोदावरी सबसे बड़ी प्रायद्वीपीय नदी है ।

 

यह महाराष्ट्र के नासिक जिले में पश्चिम घाट की ढालों से निकलती है ।

 

यह बहकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है ।

 

प्रायद्वीपीय नदियों में इसका अपवाह तंत्र सबसे बड़ा है ।

 

इसकी द्रोणी महाराष्ट्र ( नदी द्रोणी का 50 प्रतिशत भाग ) , मध्य प्रदेश , ओडिशा तथा आंध्र प्रदेश में स्थित है ।

 

🔶 लंबाई :- इसकी लंबाई लगभग 1,500 कि० मी० है ।

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- गोदावरी में अनेक सहायक नदियाँ मिलती हैं , जैसे पूर्णा , वर्धा , प्रान्हिता , मांजरा , वेनगंगा तथा पेनगंगा । इनमें से अंतिम तीनों सहायक नदियाँ बहुत बड़ी हैं ।

 

बड़े आकार और विस्तार के कारण इसे ‘ दक्षिण गंगा ‘ के नाम से भी जाना जाता है ।

 

❇️ महानदी द्रोणी :-

 

महानदी का उद्गम छत्तीसगढ़ की उच्चभूमि से है तथा यह ओडिशा से बहते हुए बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है ।

 

🔶 लंबाई :- इस नदी की लंबाई 860 कि० मी० है ।

 

इसकी अपवाह द्रोणी महाराष्ट्र , छत्तीसगढ़ , झारखंड तथा ओडिशा में है ।

 

❇️ कृष्णा द्रोणी :-

 

महाराष्ट्र के पश्चिमी घाट में महाबालेश्वर के निकट एक स्रोत से निकलकर कृष्णा लगभग 1,400 कि ० मी ० बहकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है ।

 

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- तुंगभद्रा , कोयना , घाटप्रभा , मुसी तथा भीमा इसकी कुछ सहायक नदियाँ हैं ।

 

इसकी द्रोणी महाराष्ट्र , कर्नाटक तथा आंध्र प्रदेश में फैली है ।

 

❇️ कावेरी द्रोणी :-

 

कावेरी पश्चिमी घाट के ब्रह्मगिरी श्रृंखला से निकलती है तथा तमिलनाडु में कुडलूर के दक्षिण में बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है ।

 

🔶 लंबाई :- इसकी लंबाई 760 कि० मी० है ।

🔶 इसकी सहायक नदियाँ :- इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं अमरावती , भवानी , हेमावती तथा काबिनि ।

 

इसकी द्रोणी तमिलनाडु , केर तथा कर्नाटक में विस्तृत है ।

 

❇️ झील :-

🔹 पृथ्वी की सतह के गर्त वाले भागों में जहाँ जल जमा हो जाता है , उसे झील कहते हैं ।

🔹 बड़े आकार वाली झीलों को समुद्र कहा जाता है । जैसे :- केस्पियन , मृत तथा अरल सागर ।

❇️ झीलों की उपयोगिता :-

 

बाढ़ की रोकथाम

 

नदी के बद्यव को सुचारु बनाना

 

जल विद्युत का निर्माण

 

जलवायु को सामान्य बनाना

 

जलीय पारितंत्र को संतुलित करना

 

पर्यटन को बढ़ावा

 

❇️ भारत में झीलें :-

🔹 भारत में भी बहुत – सी झीलें हैं । ये एक दूसरे से आकार तथा अन्य लक्षणों में भिन्न हैं । अधिकतर झीलें स्थायी होती हैं तथा कुछ में केवल वर्षा ऋतु में ही पानी होता है , जैसे – अंतर्देशीय अपवाह वाले अर्धशुष्क क्षेत्रों की द्रोणी वाली झीलें ।

🔹 यहाँ कुछ ऐसी झीलें हैं , जिनका निर्माण हिमानियों एवं बर्फ चादर की क्रिया के फलस्वरूप हुआ है । जबकि कुछ अन्य झीलों का निर्माण वायु , नदियों एवं मानवीय क्रियाकलापों के कारण हुआ है ।

❇️ भारत में मीठे पानी की प्राकृतिक झीलें :-

🔹 वुलर , डल , भीमताल , नैनीताल , लोकताक तथा बड़ापानी हैं ।

❇️ भारत में मानव निर्मित झीले :-

🔹 गोविन्द सागर , राणा प्रताप सागर , निज़ाम सागर , महत्वपूर्ण हैं ।

❇️ नदियों का अर्थव्यवस्था में महत्त्व :-

🔹 भारत जैसे देश के लिए , जहाँ कि अधिकांश जनसंख्या जीविका के लिए कृषि पर निर्भर है , वहाँ सिंचाई , नौसंचालन , जलविद्युत निर्माण में नदियों का महत्त्व बहुत अधिक है ।

❇️ नदी प्रदूषण :-

🔹 नदी जल की घरेलू , औद्योगिक तथा कृषि में बढ़ती माँग के कारण , इसकी गुणवत्ता प्रभावित हुई है । इसके परिणामस्वरूप , नदियों से अधिक जल की निकासी होती है तथा इनका आयतन घटता जाता है ।

🔹 दूसरी ओर , उद्योगों का प्रदूषण तथा अपरिष्कृत कचरे नदी में मिलते रहते हैं । यह केवल जल की गुणवत्ता को ही नहीं , बल्कि नदी के स्वतः स्वच्छीकरण की क्षमता को भी प्रभावित करता है ।

❇️ नदी प्रदूषण से बचाव :-

🔹 नदियों में बढ़ते प्रदूषण के कारण इनको स्वच्छ बनाने के लिए अनेक कार्य योजनाएँ लागू की गई हैं ।

❇️ राष्ट्रीय नदी संरक्षण योजना ( एनआरसीपी ) :-

🔹 देश में नदी सफाई कार्यक्रम का शुभारंभ 1985 में गंगा एक्शन प्लान ( जीएपी ) के साथ आरंभ हुआ । वर्ष 1995 में राष्ट्रीय नदी संरक्षण योजना ( एनआरसीपी ) के तहत अन्य नदियों को जोड़ने के लिए गंगा कार्य योजना का विस्तार किया गया । नदियाँ देश में जल का प्रमुख स्रोत हैं । एनआरसीपी का उद्देश्य नदियों के जल में प्रदूषण को कम करके जल की गुणवत्ता में सुधार करना है ।

Tags:

Comments are closed