Poem 2 Wind

-By Subramania Bharati

Stanza- 1

Wind, come softly.

Don’t break the shutters of the windows.

Don’t scatter the papers.

Don’t throw down the books on the shelf.

Explanation: The poet makes request to the wind, asking it not to blow so strongly that it breaks down the shutters of the windows, as they separate man from the stormy environment outside. So he is asking the wind for protection. He also asks the wind not to scatter the papers in his room, or to throw down the books from his bookshelves with its force.

व्याख्या- कवि हवा से अनुरोध करता है, यह कहते हुए कि वह इतनी जोर से न चले कि वह खिड़कियों के शटर तोड़ दे, क्योंकि वे मनुष्य को बाहर के तूफानी वातावरण से अलग करती हैं। इसलिए वह हवा से सुरक्षा मांग रहा है। वह हवा से यह भी कहता है कि वह उसके कमरे में कागज़ न बिखेर दे, या उसकी किताबों की अलमारियों से किताबों को उसके बल से नीचे न फेंक दे।

Stanza- 2

There, look what you did – you threw them all down.

You tore the pages of the books.

You brought rain again.

Explanation: Here the poet accuses the wind of blowing too strongly and creating the mess in his room with the books thrown down from the shelves and their pages torn. He sees outside and tells the wind that it has brought rain with it again.

व्याख्या- यहाँ कवि हवा के बहुत जोर से बहने और अलमारियों से नीचे फेंकी गई पुस्तकों और उनके पन्ने फटने से उसके कमरे में गड़बड़ी पैदा करने का आरोप लगाता है। वह बाहर देखता है और हवा से कहता है कि वह अपने साथ फिर से बारिश लेकर आई है।

Stanza- 3

You’re very clever at poking fun at weaklings.

Frail crumbling houses, crumbling doors, crumbling rafters,

crumbling wood, crumbling bodies, crumbling lives,

crumbling hearts –

the wind god winnows and crushes them all.

Explanation: Now the poet speaks in a subdued tone to the wind, saying that it makes mischief whenever it encounters anyone who is too meek humble and mild to protest against its actions. It tears down doors, rafters and even entire wooden houses altogether leaving people without shelter from the harsh world outside. This is an idiom implying that the troubles we face in life come as suddenly as the wind, and also leave suddenly. As the poet says, the wind can ear down weak bodies and fragile hearts. That is, difficulties in life can lead to a loss of hope, as well as a loss of life. Thus, it is all up to the wind god, says the poet.

व्याख्या: अब कवि हवा से दब्बू स्वर में कहता है कि जब भी उसका सामना किसी ऐसे व्यक्ति से होता है जो अपने कार्यों का विरोध करने के लिए बहुत विनम्र और विनम्र होता है तो वह शरारत करता है। यह दरवाजे, छत और यहां तक कि पूरे लकड़ी के घरों को पूरी तरह से तोड़ देता है और लोगों को बाहर की कठोर दुनिया से आश्रय के बिना छोड़ देता है। यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि जीवन में आने वाली परेशानियाँ हवा की तरह अचानक आती हैं और अचानक चली भी जाती हैं। जैसा कि कवि कहते हैं, हवा कमजोर शरीरों और नाजुक दिलों को कान लगा सकती है। यानी जीवन में कठिनाइयों से आशा का नाश हो सकता है, साथ ही जीवन का नुकसान भी हो सकता है। इस प्रकार, यह सब पवन देवता पर निर्भर है, कवि कहते हैं।

Stanza- 4

He won’t do what you tell him.

So, come, let’s build strong homes,

Let’s join the doors firmly.

Practice to firm the body.

Make the heart steadfast.

Do this, and the wind will be friends with us.

Explanation: The poet now speaks to the readers, saying that the wind does not listen to anybody and its actions are governed by it alone. To escape its harmful effects, we should build our homes on a strong foundation and ensure that their doors cannot be easily penetrated get access to) by the wind. Also, we must train our bodies and our hearts to combat and resist face the ill-effects of the wind. If we are able to do this, then we will no longer consider the wind an enemy. Instead the wind will invite us to become its friend. This is an idiom meaning that if we make our character strong, we will be able to combat any troubles easily. However, if our character is weak, the troubles will create problems for us.

व्याख्या- कवि अब पाठकों से यह कहते हुए बात करता है कि हवा किसी की नहीं सुनती और उसके कार्य अकेले ही संचालित होते हैं। इसके हानिकारक प्रभावों से बचने के लिए, हमें अपने घरों को एक मजबूत नींव पर बनाना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हवा आसानी से उनके दरवाजों में प्रवेश न कर सके। साथ ही, हमें अपने शरीर और हृदय को हवा के दुष्प्रभाव का मुकाबला करने और उसका सामना करने के लिए प्रशिक्षित करना चाहिए। अगर हम ऐसा कर पाए तो फिर हम हवा को दुश्मन नहीं मानेंगे। इसके बजाय हवा हमें अपना मित्र बनने के लिए आमंत्रित करेगी। यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि यदि हम अपने चरित्र को मजबूत बना लें तो हम किसी भी मुसीबत का मुकाबला आसानी से कर सकेंगे। हालांकि, अगर हमारा चरित्र कमजोर है, तो मुसीबतें हमारे लिए मुश्किलें खड़ी कर देंगी।

Stanza- 5

The wind blows out weak fires.

He makes strong fires roar and flourish.

His friendship is good.

We praise him everyday.

Explanation: Here the poet describes how the wind has both bad effects and good effects. The bad effect is that it can blow out a weak fire. However, if the fire is burning strongly, then the wind will make it burn fiercer, thus nurturing what is already strong. The poet comes to the conclusion that if we are strong, then the wind is a good friend for us to have, as it will increase our strength. This is an idiom meaning that all troubles that we face in life will strengthen us further if our characters are strong However, we will be seriously affected by troubles if our characters are weak. He also says that we should sing our devotion to the wind god on a daily basis meaning that we should happily face any troubles in our lives.

व्याख्या: यहाँ कवि वर्णन करता है कि किस प्रकार वायु के बुरे प्रभाव और अच्छे प्रभाव दोनों होते हैं। इसका बुरा प्रभाव यह होता है कि यह कमजोर आग को बुझा सकता है। हालांकि, अगर आग जोर से जल रही है, तो हवा इसे और तेज कर देगी, इस प्रकार जो पहले से ही मजबूत है उसका पोषण करेगी। कवि इस निष्कर्ष पर पहुँचता है कि यदि हम मजबूत हैं, तो हवा हमारे लिए एक अच्छी मित्र है, क्योंकि यह हमारी ताकत को बढ़ाएगी। यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि यदि हमारे चरित्र मजबूत हैं तो जीवन में आने वाली सभी परेशानियां हमें और मजबूत करेंगी हालांकि, यदि हमारे चरित्र कमजोर हैं तो हम मुसीबतों से गंभीर रूप से प्रभावित होंगे। वह यह भी कहते हैं कि हमें प्रतिदिन पवन देव की भक्ति करनी चाहिए अर्थात हमें अपने जीवन में किसी भी परेशानी का खुशी से सामना करना चाहिए।

Conclusion of the Wind

The poem gives us a very important message that we should not feel bad that we are facing so many challenges and hardships in life. Instead, we should make ourselves mentally and physically strong to face challenges.

कविता हमें एक बहुत महत्वपूर्ण संदेश देती है कि हमें बुरा नहीं मानना चाहिए कि हम जीवन में इतनी सारी चुनौतियों और कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। इसके बजाय हमें चुनौतियों का सामना करने के लिए खुद को मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत बनाना चाहिए।

Tags:

Comments are closed